जमुई बिहार मुंगेर 

जमुई: देखें वीडियो मानवता के नाते शहरवासी के दुःख दर्द बाँटने को निकली स्मीर्ति पासवान

बिहार न्यूज़ लाईव से प्रशांत किशोर

ऐसे बहुत ही कम लोग होते हैं जो बड़े पद प्रतिष्ठा मिल जाने के बाद भी आमलोगों के साथ सरलतापूर्वक उनके सुख दुःख में शामिल हो पाते हैं।आई पी एस की पत्नी जिन्हें सुख सुविधा की कोई कमी ना हो वो आगे बढ़कर समाज के दुःख दर्द को बाँटने के लिए पहल कर रही हैं।एक औरत होकर प्रतिनिधित्व कर लोगों की भावनाओं की कद्र कर उनके साथ आगे चल रही हों तो उनके प्रति लोगों का नजरिया और सम्मान और भी बढ़ जाता है।

बीते सप्ताह जमुई में हुई सांप्रदायिक हिंसा से झुलस चुके शहर को फिर से हरा भरा करने तथा आम जन जीवन को सामान्य बहाल करने के लिए जमुई जिला के पुलिस कप्तान जयन्त कांत की पत्नी स्मीर्ति पासवान ने अमन और शांति बहाली के लिए की है बिशेष पहल।इसी सिलसिले में स्मीर्ति पासवान ने शहर के बुद्धिजीवी पुरुष और महिलाओं के साथ मिलकर अपने आवास के सभा कक्ष में बैठक की।बैठक में कई बिद्यालयों के निदेशक, प्राचार्य,प्रबुद्ध समाजसेवी,पत्रकारगण ,एन जी ओ के संचालक आदि उपस्थित हुए।इस अवसर पर स्मीर्ति पासवान ने कहि की शहर में अमन चैन और भाई चारा बनी रहे इसके लिए हमसभी मिलकर फिर से वही शांति और सुकून से भरा जमुई बनायेंगें।तनाव से हुई हिंसा में शिकार हुए पीड़ित परिवार से मिलीं तथा उन्हें ढांढस बंधाया।साथ ही पुलिस कप्तान की पत्नी ने कहा की मुझे गर्व् है की मैं उस जाँबाज पुलिस कप्तान की पत्नी हूँ जिन्होंने अपनी सूझ बुझ से शहर में फैली हिंशा को जल्द ही काबू कर पाये।अपने पति के साथ शहर में ही रह रहने से यहां के लोगों से आत्मीयता और घनिस्टता बन जाने से बहुत ही सहज महसूस करने लगी हूँ। इसलिए सांप्रदायिक तनाव से गुजरे शहर वासी के साथ इस घडी में मैं खुद दुखी व मर्माहत हूँ। शहर में अमन और शांति बनी रहे इसके लिए मैं अपने स्तर से सभी समुदाय के लोगों को आपसी भाईचारा बनाये रखने की अपील करता हूँ। पुलिस कप्तान की पत्नी के इस कदम से शहरवासी सराहना कर रहे हैं।शहर में घुमघुमकर शांति बहाली के प्रयास को मिशाल के तौर पर देख रहे हैं।

Print Friendly, PDF & Email

Comments

Related posts