बिहार समस्तीपुर 

समस्तीपुर खानपुर चिकित्सक के लापरवाही से फिर गयी एक जान —शिवनारायण।

सुमन मिश्रा /अर्जुन कुमार झा 

खानपुर थाना क्षेत्र के उदयपुर कॉलनी निवासी प्रभात कुमार ने अपनी पत्नी शारदा कुमारी उम्र करीब 24 वर्ष को प्रसव के लिए शुक्रवार की सुबह 7वजे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खानपुर में भर्ती कराया गया।शाम 5वजकर 25 मिनट में जच्चा ने एक नवजात को जन्म दिया।प्रसूता को डॉ प्रवेंद्र कुमार एवं ए एन एम नीलम कुमारी देख रहे थे।प्रसूता ने उक्त चिकित्सक के देख रेख में नार्मल डीलेभरी के तहत वच्चे को जन्म दिया।तदोपरान्त जच्चा का अचानक तबियत बिगड़ने लगी।

रात के करीब 8:30वजे अस्पताल के चिकित्सक ने आनन फानन में रोगी को यनयत्र इलाज के लिए रेफर किया।यहां का एम्बुलेंस खराब होने के कारण उसके परिजनों ने टेम्पू से समस्तीपुर बेहतर इलाज के लिए ले जाते लेकिन इसी दैरान प्रसूता की मृत्यु हो गई।
मृत्यु के बाद स्थानीय लोगों ने चिकित्सक पर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगते हुए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खानपुर में काफी समय तक हंगामा किये।
हंगामें के आहट सुनकर स्थानीय मुखिया अमल भारती एवं रोगी कल्याण समिति के सदस्य शिव नारायण रॉय ने अस्पताल पहुंच कर बीच वचाव किये।साथ ही प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ प्रमोद कुमार को फटकार लगाते हुए व्यवस्था सुधारने की हिदायत दी।
वहीँ लोगो ने बताया कि पीएचसी में एक भी डॉक्टर नही रहते है
केवल नर्स व् आशा बहू व् भगवान के भरोसे पीएचसी में काम चल रहा है।वही इस अस्पताल में रोगी के साथ जानवर जैसा व्यवहार किया जाता है।अच्छे चिकित्सक यहाँ नहीं रहते हैं।आयुष चिकित्सक के भरोसे अस्पताल को छोड़े हुए हैं।इससे इस तरह की घटना आये दिन होती रहती है।गरीब मजबूर निःसहाय लोग का सुनने वाला कोई नहीं है।यहाँ के लोग भगवान भरोसे हैं।

Related posts