बेगूसराय:ग्रामीण कार्य विभाग बलिया के अधिकारियों की मनमानी

125

ना स्टीमेट ना वर्क आर्डर बिना टेंडर के ही ग्रामीण कार्य विभाग ने शुरू करवा दिया सड़क मरम्मति का कार्य

ताजपुर से साहपुर तक पुलिया एवं सड़क मरम्मति को लेकर 30 लाख की लागत से होना है काम

आगामी 6 जून को टेंडर के लिये पूर्व में अखबार में निकाला गया विज्ञापन

लोगों ने लगाया आरोप अपने नजदिकियों को फायदा पहुंचाने के लिये शुरू करवाया निर्माण कार्य

30 लाख की लागत से होना है पुलिया का निर्माण एवं टूटी सड़क का पीसीसी कार्य

निर्माण में संवेदक इस्तेमाल कर रहे हैं मिर्जाचौकी का घटिया चिप्स

बेगूसराय बलिया ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल बलिया के अधिकारियों की मनमानी का मामला प्रकाश में आया है. ग्रामीण कार्य विभाग के कार्यपालक अभियंता एवं एसडीओ के द्वारा अपने नजदीकी संवेदक से मिलीभगत कर ना स्टीमेट बनाया गया और ना ही वर्क ऑडर ही बना बिना टेंडर के ही सड़क निर्माण का कार्य शुरू करवा दिया गया है. इतना ही नहीं निर्माण कार्य करने वाले संवेदक के द्वारा विभाग के जेई के समक्ष ही घटिया सामाग्री का इस्तेमाल कर निर्माण कार्य कराया जा रहा है. ग्रामीणों के द्वारा कहने पर विभागीय अधिकारियों से लेकर संवेदक तक एक नहीं सुनी जा रही है. जिससे स्थानीय ग्रामीणों में रोष व्याप्त है. बताया जाता है कि बलिया प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत दियारा के ताजपुर से साहपुर तक बाढ़ में टूटी सड़क की मरम्मति एवं पुलिया निर्माण को लेकर करीब 30 लाख की विगत दिनों विभाग के द्वारा अखबार में ई अल्पकालीन निविदा आमंत्रण को लेकर सूचना संख्या 3054/FDR/01/ET/2020-21 बाढ़ आपातकालीन कार्य को लेकर विज्ञापन निकाला गया था. जिसमें आगामी 6 जून को निविदा की तिथि तय की गयी थी. निविदा हुई भी नहीं कि विगत एक सप्ताह से कार्य भी शुरू कर दिया गया है. निविदा के संबंध में पूछे जाने पर ग्रामीण कार्य विभाग के कार्यपालक अभियंता अबधेश कुमार ने तो पहले विभागीय काम होने की बात बताई. बाद में उन्होंने टेंडर की बात भी स्वीकार की. और कहा कि काम कराया जा रहा है. जिसके नाम से टेंडर होगी उसे रूपये का भुगतान विभाग के द्वारा किया जायेगा. उनकी इस बात से तो टेंडर में भी मिलीभगत की बू आ रही है. जो पहले से ही तय है कि टेंडर किसी का भी हो काम विभागीय अधिकारी के मताहत ही करेगें. जबकि विभाग के अभियंता(एसडीओ) मो तबरेज आलम ने तो यहां तक कह डाला कि यह काम विभागीय हो रहा है. जबकि दोनों अधिकारियों के अलग-अलग बयान से प्रतीत होता है कि इस कार्य में कुछ तो गड़बडी़ है जिसे छुपाया जा रहा है. स्थानीय ग्रामीणों ने तो विभाग के एसडीओ पर अपने नजदीकी डंडारी प्रखंड के कटहरी के एक संवेदक द्वारा मनमाने ढंग से काम कराने का आरोप लगाया है. लोगों ने जिलाधिकारी से इस कार्य की गुणवत्ता एवं टेंडर से पूर्व ही काम शुरू केसै की गयी इसकी जांच करवाने की मांग की है|

बिना टेंडर के ही संवेदक से मिलीभगत कर विभाग ने शुरू करवा दिया मरम्मति कार्य

स्थानीय पूर्व मुखिया सुरेश सिंह, अमित कुंवर, सुनील कुमार आदि ने बताया कि बिना टेंडर के विभाग कैसे किसी संवेदक से काम करवा रही है. जबकि निर्माण कार्य में संवेदक की मोटी रकम खर्च होगी. इससे यही प्रतीत होता है कि सब कुछ पहले से ही फिक्स है कि कौन सा टेंडर किस संवेदक के नाम से होगा. विभागीय अधिकारी संवेदक से मिले हुये हैं. तभी तो बिना टेंडर के ही काम शुरू करवा दिया गया है.

निर्माण में घटिया सामाग्री का किया जा रहा है इस्तेमाल

सड़क निर्माण में घटिया सामग्री का भी इस्तेमाल किया जा रहा है. हालत यह है कि पीसीसी में इस्तेमाल किये जाने वाले स्टोन चिप्स में मिट्टी का डस्ट से पटा हुआ है. जिस पर स्थानीय लोगों ने नाराजगी व्यक्त की तो विभाग के एसडीओ ने दादागिरी दिखाते हुये कहा कि इसी चिप्स से कार्य किया जायेगा.

क्या कहते हैं स्थानीय लोग

भवानंदपुर पंचायत की मुखिया श्रीदेवी ने निर्माण कार्य पर सवाल उठाते हुये कहा कि विभागीय अधिकारियों की मनमानी से बिना टेंडर के अपने नजदिकियों से निर्माण कार्य कराया जा रहा है. साथ ही निर्माण में घटिया सामाग्री का भी इस्तेमाल किया जा रहा है. जो जांच का विषय है. उन्होंने जिलाधिकारी से जांच की मांग की है.

जिस तरह से विभाग के अधिकारियों की देख-रेख में संवेदक द्वारा काम किया जा रहा है. उससे विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत की बू आ रही है. निर्माण में घटिया सामाग्री इस्तेमाल किये जाने के बावजूद अधिकारी मौन हैं.

दयानंद सिंह, पूर्व प्रखंड जदयू अध्यक्ष, बलिया ने कहा

बिना टेंडर के ही विभागीय अधिकारी संवेदक से निर्माण करवा रही है. जबकि इससे साफ जाहिर होता है कि टेंडर सिर्फ खानापूर्ति के लिये ही किया जाता है. जबकि पहले से सब कुछ तय रहता है. यह भ्रष्टाचार की पराकाष्ठा है. उन्होंने जिलाधिकारी से इसकी जांच करवाकर दोषी अधिकारी के खिलाफ कानूनी कार्यवाई करने की मांग की है.:-

क्या कहते हैं ग्रामीण कार्य विभाग के अधिकारी

अबधेश कुमार, कार्यपालक अभियंता, ग्रामीण कार्य विभाग बलिया
इस संबंध में ग्रामीण कार्य विभाग के कार्यपालक अभियंता अबधेश कुमार ने बताया कि टेंडर आगामी 6 जून को निर्धारित की गयी है. संवेदक द्वारा निर्माण कार्य कराया जा रहा है. टेंडर जिस संवेदक के नाम से होगा उसी को रूपये की भुगतान की जायेगी.

यह निर्माण कार्य विभागीय हो रहा है. जिसका स्टीमेट कार्य पूरा होने पर बनता है. संवेदक को कार्य की अनुमति दी गयी है. उन्होंने घटिया सामाग्री के इस्तेमाल पर बताया कि इस कार्य में इसी तरह की सामाग्री का इस्तेमाल किया जायेगा.
मो तबरेज आलम, एसडीओ, ग्रामीण कार्य विभाग बलिया

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Managed by Cotlas