मनरेगा योजना से निर्माणाधीन पुलिया में घटिया सामग्री का उपयोग पर अधिकारी मौन

7

?️ अंधी हुई प्रखंड प्रशासन पूल के निर्माण में लगा ग्रहण

?️ उग्र ग्रामीणों ने किया आमरण अनशन बिडियो ने जांच के नाम पर चार दिन का और लिया समय

अरविंद कुमार सिंह की एक रिपोर्ट।

मोतिहारी(पूर्वी चम्पारण)‌।

मोतिहारी के केसरिया थाना क्षेत्र के डेरवां मठिया पंचायत के फुलतकिया गांव में वार्ड नं-03 और 04 के बीच काशी राम सड़क को जोड़ने वाली मार्ग पर पुलिया निर्माण कार्य पंचायत के मुखिया द्वारा कराया जा रहा है। जो मनरेगा योजना द्वारा के द्वारा निर्माण हो रहा है। जिसमें घटिया किस्म के ईट, बालू एवं सीमेंन्ट का इस्तेमाल किया जा रहा है। जो सरकारी राशी को लूटने जैसा प्रतित होता है। जिसपर गांव के ग्रामिणों ने प्रखंड विकास पदाधिकारी आभा कुमार सहित प्रखंड पीओ को इसकी लिखीत शिकायत दिनांक 14 नवम्बर को किया। जिसमें दर्जनों ग्रामीण जनता का हस्ताक्षर युक्त आवेदन पत्र है। लेकिन विभाग द्वारा इस पर कोई ठोस कारवाई नहीं किया गया। पुनः ग्रामीणों ने 18 नवम्बर को दर्जनों ग्रामीणों का एक हस्ताक्षर युक्त आवेदन देकर निस्पक्षता से जांच करने की मांग की। लेकिन हालात इतने बूरे है कि जनता से उपर उठकर प्रशासन के लोग निर्णय लेने में कोई कसर नही छोड़ी।  प्रखंड प्रशासन ग्रामीणों के आवेदन को अनदेखा कर दिया । जिसके विरोध में गांव के ग्रामीणों ने उग्र होकर बुधवार की सूबह से आमरण अनशन पर बैठ प्रखंड प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की तथा विरोध प्रदर्शन किया। वहीं मुखिया संघ के अध्यक्ष बच्चूलाल राय ने आमरण अनशन पर बैठे ग्रामीणों को समाझा बूझाकर लीपा पोती करने के फिराक में थे। हलांकि ग्रामीणों ने बच्चू लाल राय के बातों को नकार दिया। वही मुखिया अजीत कुमार सिंह की पहल पर अनशन कारियों को जूस पिला कर अनशन तोडवाया गया। अनशन में मुख्य रूप से बृजकिशोर सिंह, हृदयनारायण सिंह शामिल थे। जबकि मौके पर शशिभूषण सिंह,रामाशंकर सहनी, मन्टू कुमार, संजय सहनी,अभिषेक कुमार, चन्दन दास,कुन्दनलाल कुमार,राणा प्रताप सिंह सहित अन्य ग्रामीण जनता उपस्थित थे।

गौरतलब हो कि समय रहते अगर स्थानीय बिडियो द्वारा कारवाई की गई होती तो शायद आज आमरन अनशन नही होता। यह उच्चस्तरीय जांच का विषय है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Farbisganj
siwan
Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More