छपरा:कोविड टीकाकरण के लक्ष्य को शत-प्रतिशत व जल्द हासिल करने के लिए टीकाकरण केंद्रों का होगा विस्तार

0 96

• 42 दिनों के बाद दिया जायेगा कोविशिल्ड का दूसरा डोज
• सेकेंड डोज के लिए ब्लॉक मैसेज व आशा कार्यकर्ता के माध्यम से किया जायेगा जागरूक
• राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक ने जारी निर्देश

छपरा: जिले में कोरोना संक्रमण के खिलाफ टीकाकरण अभियान जोर-शोर से चल रहा है। 18 वर्ष से 44 वर्ष आयुवर्ग के सभी नागरिकों को कोविड 19 के टीकाकरण किया जा रहा है। लाभार्थियों के टीकाकरण के आच्छादन लक्ष्य को यथाशीघ्र प्राप्त करने के लिए वैक्सिन की उपलब्धता के अनुरूप शहरी क्षेत्रों में कोविड 19 टीकाकरण सत्र स्थल को आवश्यकतानुसार विस्तारित किया जायेगा। विस्तारित सत्र स्थलों पर कार्य के सुगम संचालन के लिए आवश्यक संख्या में मानव बल की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। इस संबंध में राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। जारी पत्र के माध्यम से कहा गया है कि सत्र स्थल का आयोजन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र संस्थान से इतर स्कूल कॉलेजों आदि में किये जाने का निर्देश पूर्व में दिया गया है। 18 से 44 वर्ष आयुवर्ग के लाभार्थियों के टीकाकरण के लिए सत्रों को कोविन पोर्टल पर प्रकाशित करने की प्रक्रिया अपराह्न 4 से 6 बजे के बीच पूर्ण की जाएगी। ताकि उक्त आयुवर्ग के लाभार्थियों को एक निश्चित समय पर सत्रों के चयन की सुविधा प्राप्त हो सके। सत्र स्थल पर भीड़ के कुशल प्रबंधन हेतु प्रति सत्र स्थल प्रतिदिन लाभार्थियों की संख्या 200 से 300 के बीच ही निर्धारित करने के भी निर्देश दिए गए हैं।

42 दिनों के बाद हीं दिया जायेगा दूसरा डोज:

भारत सरकार के निदेशानुसार कोविशील्ड वैक्सिन की द्वितीय खुराक 42 दिनों के उपरांत ही दी जानी है। ज्ञात हो कि 45 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के लाभार्थियों का आच्छादन भारत सरकार द्वारा निर्धारित मानक द्वितीय खुराक हेतु 70% तथा प्रथम खुराक हेतु 30% के अनुरूप नहीं है, जिसके आच्छादन प्रतिशत को बढ़ाये जाने की आवश्यकता है। इसके लिये वैसे क्षेत्रों का चयन करने की सलाह दी गयी है, जहां के लाभार्थियों के द्वितीय खुराक हेतु कोविशील्ड से टीकाकृत लाभार्थियों की 42 दिनों एवं कोवैक्सिन के लिए 28 दिनों के अन्तराल की अवधि पूर्ण हो गई हो। इसको लेकर कार्ययोजना तैयार करते हुए सत्रों का निर्धारण करने की भी बात कही गयी है ताकि अधिक से अधिक लाभार्थियों को टीकाकरण से आच्छादित किया जा सके।

आशा कार्यकर्ता, पंचायत सदस्य व मैसेज के माध्यम से किया जायेगा जागरूक:
कार्यपालक निदेशक ने निर्देश दिया है कि कोविड 19 टीकाकरण के आयोजित होने वाले सत्रों की जानकारी संबंधित आशा / आंगनवाड़ी एवं अन्य सहयोगी कर्मियों को उपलब्ध कराई जाय तथा कोविड 19 टीकाकरण के द्वितीय खुराक के ड्यू लाभार्थियों की सूची कोविन पोर्टल से प्राप्त कर लाभार्थियों के उत्प्रेरण के लिए सत्र स्थल से संबंधित आशा, आंगनवाड़ी, पंचायत सदस्य आदि के माध्यम से उत्प्रेरित कराकर टीकाकरण कराना सुनिश्चित किया जाय। इसके लिये प्रखंड स्तर से ड्यू लाभार्थियों को दूरभाष और ब्लक मैसेज के माध्यम से टीकाकरण हेतु सूचित करने का निर्देश दिया है।

कार्य स्थल पर भी बनाया जायेगा टीकाकरण केंद्र:

कार्य स्थलों पर टीकाकरण केंद्र बनाने का निर्देश दिया गया है। संस्थानों के लिए कोविन के जिला एडमिन के द्वारा पोर्टल पर अलग अलग कार्य स्थल पर 18 से 44 वर्ष आयुवर्ग एवं 45 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के लिए लाभार्थियों के लिए टीकाकरण केंद्र बनाया जायेगा। संस्थान स्तर पर सत्र के आयोजन हेतु कम से कम 100 लाभार्थियों का होना आवश्यक है तथा इन सत्र स्थलों पर ऑफलाइन टीकाकरण का कार्य नहीं किया जायेगा। सत्र पर टीकाकरण हेतु टीकाकर्मी, वैक्सिन, सिरिंज की उपलब्धता निकटत्तम सरकारी स्वास्थ्य संस्थान स्तर के प्रभारी नोडल द्वारा किया जायेगा। कोविन पोर्टल पर डाटा के ससमय संधारण हेतु आवश्यक कम्प्यूटर ऑपरेटर, इंटरनेट, कम्प्यूटर, प्रिन्टर आदि की व्यवस्था संबंधित संस्थान / विभाग / कार्यालय द्वारा किया जायेगा। सत्र स्थल पर भीड़ प्रबंधन की जावबदेही संबंधित कार्यालय की होगी। टीकाकर्मी एवं लाभार्थियों के बैठने, सैनिटाईजेशन आदि की समुचित व्यवस्था संबंधित संस्थान विभाग कार्यालय द्वारा की जायेगी। वर्क प्लेस टीकाकरण केंद्र के तहत के संबंधित कार्यालय में कार्यरत पदाधिकारियो/ कर्मियों के ही टीकाकरण का कार्य किया जायेगा अन्य का नहीं। टीकाकरण के पश्चात् अपशिष्टों का प्रबंधन बायोवेस्ट प्रबंधन के तहत किया जाना सुनिश्चित किया जायेगा।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Managed by Cotlas