गोपालगंज: तिरंगे के असली अर्थ को समझने और समझाने वाले नेता है श्री नीतीश कुमार प्रमोद कुमार पटेल

0 10

बिहार न्यूज़ लाइव डेस्क:

गोपालगंज (बिहार) जनता दल यूनाइटेड के प्रदेश सचिव व पूर्व जिला पार्षद प्रमोद कुमार पटेल ने कहा कि आज हम आजादी का 75 अमृत महोत्सव मना रहे हैं ।ऐसे में हमें अपने देश की महान परंपरा पर गर्व करना चाहिए ।आजादी का असली अर्थ सही मायने में समाज के सबसे निचले तबके को आजादी की सही अर्थ से अवगत कराना है , यह तभी संभव है जब समाज के वंचित तबकों को विकास की मुख्यधारा से जोड़ा जा सके,

 

बिहार के विकास पुरुष मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसमें सफलता हासिल की है उन्होंने तिरंगे से आम जनमानस को जोड़ने में भी सफलता हासिल की है । प्रदेश सचिव प्रमोद कुमार पटेल ने कहां की बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में जब से सत्ता की बागडोर मिली तब से सरकारी स्तर पर समाज के महादलित दोनों में राष्ट्रीय ध्वज फहराने का आदेश जारी किया गया। और आज उसी के तहत वर्ष 2005 से हर वर्ष दलित महादलित समाज के टोला और गांव में राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा कराया जाता है , मुझे याद है वर्ष 2020 का साल पटना से करीब 40 किलोमीटर दूर मच्छरीया बाजार में 85 साल के बुजुर्ग झपसी मोची से राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहर वाया गया था ।और 1 साल पहले बिहटा प्रखंड के रौनिया गांव में रामवृक्ष मांझी ने झंडा फहराया था यह दोनों उस महा दलित समाज से आते हैं

 

 

जिस समाज को मुख्य धारा से जोड़ने वाले राजनेता नीतीश कुमार ही एकमात्र नेता है। उन्होंने इन लोगों को अधिकार दिया, समाज के हर गरीब को विकास की मुख्यधारा से जोड़ा है। इसका परिणाम यह है कि अब यह वर्ग भी आजादी का माने समझ रहा है और अपने हक की बात कर रहा है। और समाज के इस तबके को भी आवाज देने का कार्य नीतीश कुमार ने किया , नीतीश कुमार शुरू से ही इस परंपरा को निभा रहे हैं और 2005 से हर साल महादलित बस्ती में झंडा तोलन करते हैं और समाज के सबसे कमजोर और अंतिम पायदान के लोगों को राष्ट्रीय ध्वज फहराने का अवसर देते हैं, यहां तक की 26 जनवरी और 15 अगस्त को मुख्यमंत्री जी के निर्देश पर सरकार के मंत्री और डीएम महादलित बस्ती में जाकर राष्ट्रीय ध्वज फहराने जाते हैं । सही मायने में तिरंगे की असली अर्थ को समझने और समझाने वाले नेता नीतीश कुमार ही है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Managed by Cotlas