बिहार: के गंगा घाटों में श्रद्धालुओं ने कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा में डुबकी लगाई: कोरोना संक्रमण को दिया जा रहा बढ़ावा।

बिहार :के गंगा घाटों में श्रद्धालुओं ने कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा में डुबकी लगाई: कोरोना संक्रमण को दिया जा रहा बढ़ावा।

8

बिहार न्यूज़ लाइव:–

बिहार की राजधानी पटना के विभिन्न गंगा घाटों के साथ ही दानापुर मनेर से लेकर फतुआ के इलाके तक गंगा घाट पर हजारों श्रद्धालुओं ने कार्तिक पूर्णिमा के मौके पर शुक्रवार की आज सुबह से ही आस्था की डुबकी लगाने उमड़ पड़े ।

कोरोना महामारी के नए नए मामले सामने आने के बावजूद आस्था उफान पर है ।
(Bihar CoronaVirus Alert)करीब 67 दिन बाद एक बार फिर बड़ी संख्या में कोरोना के संक्रमित मिले हैं। राज्य से कोरोना के 16 नए संक्रमित मिले हैं। अब बिहार में कोरोना के एक्टिव

बिहार में करीब 67 दिन बाद एक बार फिर बड़ी संख्या में कोरोना के संक्रमित मिले हैं। प्रदेश से कोरोना के 16 नए संक्रमित मिले हैं। बीते 24 घंटे में कोरोना संक्रमण से एक मौत भी हुई है। इसके पहले 11 सितंबर 2021 को कोरोना के 14 संक्रमित मिले थे। जबकि आठ सितंबर को 19 मरीज मिले थे। बाद के दिनों में संक्रमण के नए केस एक दो पर आ गए थे। गुरुवार को अकेले पटना जिले से छह संक्रमित मिले हैं। इनमें सबसे ज्यादा संक्रमित राजधानी पटना से छह हैं। अब बिहार में कोरोना के एक्टिव मामलों की संख्या 38 पहुंच गई है। बता दें कि 186524 टेस्ट के बाद इतनी संख्या में पाजिटिव बिहार से मिले हैं।

गंगा स्नान के दौरान कहीं भी महामारी का डर देखने को नहीं मिल रहा है। श्रद्धालु सुबह से ही गंगा में डुबकी लगाने के लिए पटना के विभिन्न घाटो पर पहुँच गए . गंगा में डुबकी लगाने के बाद लोग गंगा किनारे पूजा पाठ करते दिखे . हालांकि इस मौके पर जिला प्रशासन ने सुरक्षा के साथ ही घाटो पर गोताखोरों की व्यवस्था पहले से ही कर ली थी और गंगा में बांस के सहारे मार्किंग कर दिया गया था की श्रद्धालु को कहाँ तक स्नान के लिए गंगा में जाना है . पटना के गांधी घाट , दीघा घाट , गाय घाट ,महावीर घाट ,भद्र घाट ,कंगन घाट ,से लेकर फतुहा के घाटो पर सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ देखी जा रही है.हिंदू धर्म में पूर्णिमा तिथि पर पवित्र नदी में स्नान करने का विशेष महत्व माना गया है. मान्यता के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा पर देवता पृथ्वी पर आकर गंगा में स्नान करते हैं इसलिए इस दिन गंगा स्नान अवश्य करना चाहिए. गंगा स्नान संभव न हो तो पानी में गंगाजल डालकर स्नान करना चाहिए.धार्मिक मान्यता है कि इस दिन किया गया दान सालभर किए गए दान से भी कई हजार गुना ज्यादा फलदायी होता है. इसलिए इस दिन गरीबों को और जरुरतमंद लोगों को अपने सामर्थ्य अनुसार दान अवश्य करें. इस दिन गर्म कपड़े, गर्म चीजों का दान विशेष महत्व रखता है. इस दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा करने से सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं. वहीं, मां लक्ष्मी की पूजा करने से धन की कमी भी दूर होती है. इस दिन किसी पवित्र नदी में स्नान आदि का भी विशेष महत्व बताते हैं. कहते हैं कि अगर आप इस दिन पवित्र नदी में स्नान नहीं कर सकते, तो नहाने के जल में गंगाजल मिलाकर स्नान करना खूब फलदायी होता है. कार्तिक पूर्णिमा के दिन राशि के अनुसार किन चीजों का दान करना चाहिए आइए जानते हैं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Add4

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Managed by Cotlas