मनेर नगर पंचायत की बैठक में पार्षदों नें काटा बलाल, लापरवाही बरतने वाले संवेदकों को ब्लैक लिस्टेड करने, कुएं की उड़ाही व पनसोखा बनाने सहित लिये गये कई निर्णय

70

किशोर चौहान,बिहटा(पटना)।मनेर नगर पंचायत की ओर से आयोजित सामान्य बोर्ड की बैठक में पार्षदों ने जमकर बबाल काटा।
अध्यक्ष मीरा देवी ने जैसे ही बैठक शुरू करने का आदेश दिया वैसे ही पार्षद अमोल बजाज ने बैठक के एजेंडा पर सवाल उठाए।कहा कि आज की बैठक में पब्लिक का मुद्दा गायब है।शहर की साफ सफाई, स्ट्रीट लाईट, एवं हर घर नल जल पर पहले विचार विमर्श हो तभी किसी दूसरे एजेंडों पर बात होगी।अध्यक्ष ने जैसे ही इन मुद्दों पर चर्चा कराने की बात कही पार्षदों ने सवालों की झड़ी लगा दी। सफाई के मुद्दे पर सदन में जमकर हंगामा हुआ।पार्षदों ने एक स्वर से कहा कि शहर की स्थिति नारकीय हो गई है। पूरे शहर में नालियां बजबजा रही है।कूड़ों का ढ़ेर चारों ओर पसरा है।लोग पार्षदों को गाली दे रहे हैं।सफाई मजदूर एक माह से हड़ताल पर हैं। नगर प्रशासन सोयी हुई है।आउटसोर्सिंग से काम नहीं चल रहा है।नगर प्रबन्धक रघुनाथ प्रसाद ने कहा कि एक सप्ताह में सफाई व्यवस्था सुचारू हो जायेगा। पार्षद संजय सिंह, मनोज गोप, संजय कुमार मीरा देवी, करुणा सिंह ने कहा कि नल जल योजना में संवेदक मनमानी कर रहे हैं।लोगों को पानी नहीं मिल रहा है।आधे अधूरा ही काम हुआ है।वार्ड 9 में जल नल योजना शुरू नहीं होने पर पार्षद अमोल बजाज कड़ी नाराजगी जतायी।सर्वसम्मति से काम मे लापरवाही बरतने वाले संवेदकों को ब्लैक लिस्टेड करने का निर्णय लिया गया।पार्षद अमोल बजाज ने पूछा कि मजदूरों का बकाया वेतन का भुगतान क्यों नही हो रहा है ।इसपर कार्यपालक पदाधिकारी पूजा माला ने तीन दिनों के अंदर बकाया वेतन भुगतान करने की बात कही।उपाध्यक्ष फरीद हुसैन खान उर्फ गुड्डू खान ने अपने ही सरकार पर सवाल उठाकर पूरे सदन को सकते में डाल दिया। कहा नगर पंचायत को तीन अधिकारी ही मिलकर चला रहे हैं वैसे में हम पार्षदों की क्या आवश्यकता है।इसपर सभी पार्षदों ने कहा कि हमलोग सामूहिक रूप से इस्तीफा दे देतें हैं।कार्यपालक पदाधिकारी ही नगर पंचायत सरकार चलाये। बैठक में जल जीवन हरियाली के तहत कुँए की उड़ाही एवं चापाकलों के पास पनसोखा बनाने का निर्णय लिया गया। वहीं एनजीटी के निर्देश के आलोक में सात सदस्यीय जैव विविधता प्रबन्धन समिति का भी सर्वसम्मति से गठन किया गया। कड़ाके की ठंड को देखते हुए सभी वार्डो में तत्काल जलावन लकड़ी गिराने का निर्णय लिया गया।
वहीं नगर पंचायत के हड़ताली सफाई मजदूर बैठक की सूचना पर नगर पंचायत कार्यालय के पास जमे रहे। सफाई मजदूरों ने कोई प्रदर्शन या नारेबाजी नहीं की।मजदूरों को भरोसा था कि बैठक में उनलोगों पर भी कोई विचार होगा।लेकिन मजदूरों को निराशा हांथ लगी।बैठक में हड़ताली मजदूरों का कोई हल नहीं निकला। पार्षद अमोल बजाज ने मजदूरों के हड़ताल का मुद्दा उठाते हुए कहा कि सफाईकर्मियों के घरों में एक माह से चूल्हा नहीं जल रहा है।उनके बाल बच्चें एवं परिवार की स्थिति दयनीय है।उनलोगों से सम्मानजनक समझौता कर काम पर वापस बुलाया जाए।लेकिन सदन में बताया गया कि साफ-सफाई का काम आउटसोर्सिंग एजेन्सी को दे दिया गया है।मजदूरों को आउटसोर्सिग के माध्यम से ही काम करना होगा।कई अन्य पार्षदों ने भी मजदूरों के पक्ष में आवाज उठाई।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More