सभी तटबंधों का निरीक्षण कर तीन दिनों में प्रतिवेदन दें : डी.एम. दरभंगा

0 20
Above Post 320X100 Mobile
Above Post 640X165 Desktop

पी०एन०भारती की रिर्पोट दरभंगा।

दरभंगा :—— जिलाधिकारी, दरभंगा डॉ. त्यागराजन एस.एम. ने कहा है कि जिले के बाढ़ प्रणव अंचलों में विशेष सतर्कता बरते जाने की आवश्यकता है। बाढ़ से सुरक्षा हेतु आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा निर्धारित मानक प्रचालन प्रक्रिया (SOP) का पूरा-पूरा अनुपालन किया जाना जरूरी है। इसिलए यह आवश्यक है कि आपदा विभाग के द्वारा निर्धारित एस.ओ.पी. का ठीक से अध्ययन कर ली जाये। आपदा प्रबंधन में किसी भी स्तर पर शिथिलता अथवा लापरवाही बरते जाने पर कठोर कानूनी कार्रवाई होगी। वे बाढ़ पूर्व तैयारी की समीक्षा हेतु सभाकक्ष में आयोजित बैठक में अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि दरभंगा जिला के आठ अंचल जिसमें कुशेश्वरस्थान पूर्वी, कुशेश्वरस्थान, घनश्यामपुर, गौड़ाबौराम, किरतपुर, हनुमाननगर, बहादुरपुर एवं हायाघाट शामिल है, विगत वर्षों में बाढ़ से ज्यादा प्रभावित होते रहे हैं। इसके अलावा कई अन्य अंचलों में भी बाढ़ की समस्या हो सकती है इससे इंकार नही किया जा सकता है। उन्होंने सभी अंचलों में एस.ओ.पी. के अनुसार बाढ़ पूर्व सुरक्षात्मक कार्रवाई करने का निदेश दिया। जिलाधिकारी द्वारा सभी अंचलों में वर्षा मापक यंत्र को संस्थापित करने को कहा गया। समीक्षा में पाया गया कि कुशेश्वरस्थान का वर्षा मापक यंत्र खराब है, जिसे तुरंत ठीक कराने का निदेश दिया गया।

उन्होंने कहा कि बाढ़ आ जाने पर बाढ़ प्रभावित परिवारों के बीच राहत सामग्री का वितरण करने की आवश्यकता है। इसलिए बाढ़ से प्रभावित होने वाले संभावित गाँवां के परिवारों का डाटा बैस पूर्व से तैयार कर लेने को कहा गया जिसमें गभर्वत्ती एवं धातृ महिलाएँ तथा वृद्ध एवं असहाय् जन अलग से चिन्ह्ति हो। उन्होंने कहा कि बाढ़ के समय राहत एवं बचाव कार्य चलाने के लिए सबसे जरूरी संसाधन नाव एवं नाविक को दुरूस्त रखी जाये। जिले में उपलब्ध सरकारी नावों की जाँच कराकर, अगर खराब है तो उसकी मरम्मति कर लिया जाये। निजी नावों का निबंधन तथा नाव मालिकों से भी अनुबंध कर ली जाये। स्थानीय नाविकों/तैराकों एवं गोताखोरों को चिन्ह्ति कर उनको प्रशिक्षित कर दिया जाये। मोटर वोट की मरम्मति एवं चालक को प्रशिक्षित कर लेने को भी कहा गया। सेटेलाइट फोन/महाजाल आदि की भी जाँच कर लेने को कहा गया।

Middle Post 320X100 Mobile
Middle Post 640X165 Desktop

अपर समाहर्त्ता एवं आपदा प्रभारी को संयुक्त रूप से सभी संसाधनों की गुणवत्ता की जाँच कर संतुष्ट हो लेने को कहा गया। पॉलीथीन शीट्स का क्रय करने एवं महाजाल भाड़े पर लेने हेतु निविदा फ्लोट करने को कहा गया।

सभी अनुमण्डल पदाधिकारी/भूमि सुधार उप समाहर्त्ता/अंचल अधिकारी को बाढ़ नियंत्रण प्रमण्डल के अभियंताओं के साथ टीम बनाकर जिले की सीमा में पड़ने वाले सभी छोटे-बड़े तटबंधों का निरीक्षण कर तीन दिनों के अन्दर रिपोर्ट करने को कहा गया। वहीं तटबंधों पर कमजोर प्वाइंट पर कार्रवाई करने को भी कहा गया। बाढ़ के समय बाढ़ से घिरे लोगों को सुरक्षित बाहर निकालने एवं उन्हें ठहराने हेतु पहले से ही ऊँचे स्थलों पर शरण स्थली का निर्माण कर लेने को कहा गया। शरण स्थली में सभी जरूरी संसाधन यथा – भोजन, पानी, शौचालय, रोशनी, चिकित्सा आदि की समुचित व्यवस्था सुदृढ़ कर लेने को कहा गया।
बैठक में उपस्थित कार्यपालक अभियंता बाढ़ नियंत्रण प्रमण्डलों द्वारा तटबंधों की सुरक्षा हेतु पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति का सुझाव दिया गया। जिलाधिकारी द्वारा आश्वस्त किया गया कि बाढ़ के समय तटंबधों की सुरक्षा हेतु होमगार्ड के जवान तैनात रहेंगे एवं अंचलाधिकारी तथा संबंधित थाना प्रभारी तटबंधो की सुरक्षा प्रदान करेंगे।

जिलाधिकारी ने बड़े तटबंधों के साथ-साथ छोटे जमीदारी बाँधो एवं अन्य तटबंधो को भी चिन्ह्ति कर निरीक्षण करने को कहा। समीक्षा में पाया गया कि केवटी, जाले, हनुमानगर अंचलों में छोटे जमीदारी बाँध अवस्थित है। इसके साथ ही दवा का पर्याप्त भंडारण सभी अस्पतालों/स्वास्थ्य केन्द्रों में रखने को निदेश सिविल सर्जन को दिया गया। जिसमें एन्टीभेनम दवा को महत्वपूर्ण एवं अनिवार्य रूप से पर्याप्त मात्रा में स्टॉक कर लेने को कहा गया। सिविल सर्जन एवं जिला पशुपालन पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि सभी मानव एवं पशु दवाएँ का पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है।
जिलाधिकारी ने अपर समाहर्त्ता, आपदा प्रभारी, एस.डी.ओ./डी.सी.एल.आर. तथा सभी प्रखण्डों के वरीय प्रभारी पदाधिकारियों को बाढ़ पूर्व तैयारियों का नियमित अनुश्रवण कर प्रतिवेदन देने को कहा है।

इस बैठक में जिलाधिकारी डॉ.त्यागराजन, अपर समाहर्त्ता श्री विभूति रंजन चौधरी, उप विकास आयुक्त डॉ. कारी प्रसाद महतो, अपर समाहर्त्ता(विभागीय जाँच) श्री वीरेन्द्र प्रसाद, सभी जिला स्तरीय पदाधिकारी, सभी अनुमण्डल पदाधिकारी, सभी भूमि सुधार उप समाहर्त्ता, सभी प्रखण्डों के वरीय प्रभारी पदाधिकारी, बाढ़ नियंत्रण प्रमडल/ग्रामीण कार्य प्रमण्डल, विद्युत प्रमण्डल/पथ प्रमण्डल के कार्यपालक अभियंता/सहायक अभियंता/कनीय अभियंता, सभी अंचलाधिकारी आदि उपस्थित थे।

Below Post 300X250 Mobile
Below Post 640X165 Desktop

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Before Author Box 640X165 Desktop
Before Author Box 300X250 Mobile
After Related Post 640X165 Desktop
Before Author Box 320X250 Mobile
Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More