जमुई:चकाई के लाल ने जमुई का नाम देश में किया रौशन।

जमुई:चकाई के लाल ने जमुई का नाम देश में किया रौशन।

2

जमुई:-

बिहार में प्रतिभाएं बेमिसाल है। बिहार के प्रतिभावान छात्र अपने कड़ी मेहनत व लगन से मुकाम हासिल करने में कामयाबी मिली है। कल केUPSC में चकाई का प्रवीण 7वां रेंक लाकर चकाई को भारत के मानचित्र पर गौरवान्वित करने का काम किया है।प्रवीण जमुई के चकाई बाजार निवासी दवा व्यवसायी सीताराम बरनवाल के दुतीय सुपुत्र हैं।जिन्होंने अपनी स्कूलिंग देवघर से की फिर पटना और IIT कानपुर से B. Tech की डिग्री लेने के बाद दिल्ली से सिविल सेवा की तैयारी कर रहे थे। जब शुक्रवार को परीक्षा का परिणाम निकला तो खबर आग की तरह फैल गई की प्रवीण का घोषणा भारत में 7वॉ रेंक के रूप में हुआ।इस ख़ुशी के माहौल में भाजपा ओबीसी मोर्चा के मण्डल महामंत्री दीनदयाल राम, डोमन राम, बबलू राम, बबलू सिन्हा, सुभाष राम, गिरधारी राम, अर्जुन राम, ओमप्रकाश राम, कन्हैया कुमार, होरिल यादव, कपिल राम, कलहु यादव, लालू यादव, सहित बड़ी संख्या में लोगों का मुँह मिठाई खिला कर किया और सबने प्रवीण को बधाई और शुभकामनायें दी। बिहार की प्रतिभाएं बेमिसाल है।यहाँ के प्रतिभावान छात्र अपनी मेहनत व लग्न से मुकाम बना लेते है।कल ही यूपीएससी के सिविल सर्विसेज परीक्षा का परिणाम आया,जिसमे जमूई जिला अंतर्गत नक्सल प्रभावित चकाई बाज़ार के रहने वाले प्रवीण कुमार को सातवाँ स्थान मिला है।यह बिहार की विशिष्टता को दर्शाती है।बिहारी चाह लेते हैं तो हर मुश्किल को पार कर झंडा गाड़ ही देते हैं।
देश की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा UPSC का रिजल्‍ट शुक्रवार को जारी हो गया है।इस बार भी बिहार के युवाओं ने दमखम दिखाया है। बिहार के जमुई जिला के चकाई बाजार निवासी सीताराम वर्णवाल के पुत्र प्रवीण कुमार ने परचम लहराया है। उन्‍हें सातवा स्‍थान मिला है। रिजल्‍ट जारी होते ही उन्‍हें बधाई देने वालों का तांता लग गया।
प्रवीण की सफलता से पूरे चकाई बाजार में जश्न का माहौल है। उसके घर पर बधाई देने वालों की भीड़ उमड़ रही है। प्रवीण के पिता सीताराम वर्णवाल ने बताया कि वह बचपन से ही मेधावी था। उसकी प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा जसीडीह स्थित रामकृष्ण विद्यालय से हुई थी। बाद में उसने पटना से सीबीएससी से मैट्रिक एवं इंटर की परीक्षा पास की। उसने कानपुर आईआईटी से पढ़ाई कर दिल्ली में दो साल से यूपीएससी की तैयारी कर रहा था। उसने दूसरे प्रयास में यह सफलता हासिल की है।
प्रवीण की सफलता से उसकी मां वीणा देवी ,बड़े भाई धनंजय वर्णवाल, बहन दीक्षा वर्णवाल एवं चाचा रामेश्वर लाल वर्णावाल खुशी से झूम रहे हैं। चकाई बाजार में मेडिकल दुकान चलाने वाले सीताराम वर्णावाल ने काफी गरीबी में अपने पुत्र प्रवीण को पढ़ाया- लिखाया और आज प्रवीण ने पूरे चकाई का नाम देश स्तर पर ऊंचा किया है। प्रवीण की मां वीणा देवी ने कहा कि प्रवीण सिर्फ मेरा बेटा ही नहीं पूरे जमुई जिला का बेटा है और उम्मीद है कि वह आगे चलकर समाज सेवा के साथ-साथ देश की भी सेवा करेगा।
क्या कहते है जमुई के पुलिस कप्तान प्रमोद कुमार मंडल

इस सम्बंध में जमूई के पुलिस कप्तान प्रमोद मंडल ने कहा की जमुई के बेटे ने कमाल का प्रदर्शन किया है। यह उनके माता-पिता के लिए गर्व की बात है।प्रवीण ने देश समेत बिहार का नाम रौशन किया है।जमूई जिला के अति नक्सल प्रभावित चकाई के प्रवीण ने सफलता की नई उच्चाईयो को छुआ है।प्रवीण को हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं।

मृगांक शेखर सिंह जमुई

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Add3
Add4

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Managed by Cotlas