मधेपुरा: बालू लदे ट्रक घर पर पलटने से एक की मौत,चार घायल

16

बिहार न्यूज़ लाइव/ अनिल महाराज/ आलमनगर (मधेपुरा)

भटगामा-उदाकिशुनगंज एसएच 58 मुख्य मार्ग पर नरदह पंचायत के कोरचक्का टोले में मंगलवार की अहले सुबह तेज रफ्तार से जा रही बालू से लदे ट्रक अनियंत्रित होकर एक घर पर ही पलट गई। ट्रक चौसा से उदाकिशुनगंज की ओर जा रही थी। ट्रक के पलटने से जहां घर में सो रहे एक वृद्ध महिला की मौत हो गयी। वहीं घर के पांच सदस्य घायल गये। घटित घटना के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने घनी घनी आबादी के समीप स्पीड ब्रेकर सहित पीड़ित परिवार को मुआवजा देने की मांग को लेकर घटनास्थल के समीप मुख्य मार्ग को जाम कर दिया। जिससे लगभग पांच घंटे तक आवागमन पूर्णरूपेण ठप रहा। बाद में ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची स्थानीय प्रशासन के पहल पर आवागमन को बहाल कराया गया।पुलिस ने ट्रक एवं घर के नीचे दबे महिला के शव को निकलवाकर कागजी प्रक्रिया पूर्ण करने के उपरांत उसे पोस्टमार्टम के लिए मधेपुरा सदर अस्पताल भेज दिया गया।

घटना के बाबत मिली जानकारी अनुसार मंगलवार की अहले सुबह तेज रफ्तार से चौसा की ओर से उदाकिशुनगंज जा रही बालू लदा ट्रक कोरचक्का टोले के अंतिम छोर पर बसे विदेशी चौधरी के फुस एवं चदरा निर्मित घर पर पलट गई। ट्रक के पलटने की आवाज सुनते ही गांव के लोगों के बीच काफी अफरा-तफरी मच गई। जब तक ग्रामीण कुछ समझ पाते तब तक ट्रक एवं टूटे घर के नीचे विदेशी चौधरी की 57 वर्षीय मां मुलिया देवी की मौत हो चुकी थी। जबकि विदेशी चौधरी एवं उसके 18 वर्षीय पुत्र दिलखुश कुमार,10 वर्षीय मनखुश कुमार,08 वर्षीय हिटलर कुमार एवं 16 वर्षीय पुत्री रीमा कुमारी घायल हो गए। सभी घायलों का इलाज सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पुरैनी में कराया गया। चिकित्सकों के अनुसार सभी घायल खतरे से बाहर बताया गया है। घटना के समय परिवार के सभी सदस्य घर में सो रहे थे। संयोग अच्छा था कि महिला के बाद घर के अन्य सदस्य ट्रक के चपेट में नही आए। अन्यथा एक बड़ी घटना हो सकती थी। घटना के बाद से जहां टोले में मातमी सन्नाटा छा गया है। वहीं पीड़ित परिवार पर दुःख का पहाड़ टूट पड़ा है। उसके बीच गम का माहौल व्याप्त है। घटना के बाबत कयास लगाया जा रहा है कि ड्राइवर के संभवतः झपकी लिए जाने से तेज रफ्तार से आ रही ट्रक टर्निंग के पास टर्न नहीं लेकर सीधे घर पर आ पलटी।

घटना के बाद मुख्य मार्ग को आक्रोशित ग्रामीणों ने घटनास्थल के समीप जाम कर दिया। तत्पश्चात बीडीओ अरुण कुमार सिंह,अंचलाधिकारी किशुन दयाल राय के द्वारा सरकारी प्रावधान के अनुसार पीड़ित परिवार को मुआवजा देने के आश्वासन पर जाम को हटाकर आवागमन बहाल किया गया। छात्र नेता राहुल कुमार,ग्रामीण टुनाय चौधरी,नीरज कुमार ने स्थानीय प्रशासन से कहा कि हर घनी आबादी के समीप सड़क में स्पीड ब्रेकर होनी चहिए। ताकि घटना घटित होने की संभावना कम हो सके। बीडीओ अरूण कुमार सिंह ने ग्रामीणों को आश्वस्त करते हुए कहा कि मैं इस बाबत बीएसआरडीसी से बात कर समुचित पहल करने का हरसंभव प्रयास करूंगा। बाद में प्रशासनिक स्तर से जेसीबी के माध्यम से ट्रक के नीचे दबे शव को बाहर निकलवाया गया। मौके पर प्रभारी अंचल निरीक्षक कृष्ण कुमार सिंह,व्यापार मंडल अध्यक्ष अमित कुमार लाल,जिप सदस्य प्रतिनिधि संजय सहनी,पूर्व जिप सदस्य प्रतिनिधि प्रोफेसर मनोज यादव,आशुतोष मुखर्जी,भिखारी यादव, संजय यादव,अशोक चौधरी सहित काफी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More