मनेर दियारा के आर्सेनिक प्रभावित गांव पहूंचे पूर्व सांसद पप्पू यादव

159

,दिया शुद्ध जल के लिये चापाकल, उठाया केंद्र व राज्य सरकार की कार्यशैली पर सवाल, दी आंदोलन की धमकी,किया लालू परिवार पर कटाक्ष

किशोर चौहान,बिहटा (पटना)।जन अधिकार पार्टी के संरक्षक सह पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव सोमवार को मनेर दियारा के ऑर्गेनिक प्रभावित गांव पहूंचे।इस अवसर पर उन्होंने केंद्र व सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए अपनी नाराजगी जाहिर की।उन्होंने कहा कि बिहार में एस्टिमेट घोटाला चल रहा है।सुुुबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार परिस्थितियों के मुख्यमंत्री हैं।जंगलराज का भय दिखाकर इन्होंने सत्ता हासिल किया,लेकिन आज जंगलराज से भी बदतर स्थिति है। सौ दिन पूरे होने पर केन्द्र सरकार अपनी उपलब्धियों का जश्न मना रही है। इकोनोमी फेल है।रुपया सबसे निचले स्तर पर आ गया है।जनधन, मुद्रा लोन, कालाधन, स्टार्टअप, बेरोजगारी, जीएसटी, नोटबन्दी सब मोर्चे पर केन्द्र सरकार फेल है। समाजिक सरोकार से जुड़े जनकल्याण के लिए सरकार के पास पैसे नहीं है। एक सवाल का जवाब देते हुए पूर्व सांसद ने कहा कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के परिवार के लोग उनकी अनदेखी कर रहे हैं।उनसे मिलने भी परिवार का कोई सदस्य नहीं जाता है।परिवार में सम्पति और सत्ता के लिए संघर्ष चल रहा है।पप्पू यादव सोमवार को अचानक मनेर के आर्सेनिक प्रभावित गांव रतन टोला पहुंचकर मीडिया से मुखातिब थे।उन्होंने कहा कि दियारा एवं टाल के लोग विपरीत परिस्थितियों में भी अपनी जोगार टेक्नोलॉजी एवं जिजीविषा से जीवन यापन कर लेते हैं।पप्पू यादव ने रतन टोला गांव में तीन चापाकल लगाने की घोषणा किया जो आर्सेनिक मुक्त होगा।उन्होंने यह भी कहा कि मनेर का छह पंचायत आर्सेनिक प्रभावित है।इन सभी पंचायतों में तीन-तीन चापाकल दो सप्ताह में लगाया जायेगा।इन्होंने कहा कि इसके लिए कोर्ट में पीआईएल दायर करने के साथ ही संघर्ष भी करेंगें।गांव में कटाव होने की जानकारी मिलने पर इन्होंने तत्काल फोन से संबंधित अधिकारियों से बात की।मौके पर मगरपाल पंचायत के मुखिया रामसुजान सिंह, पूर्व मुखिया मैनेजर यादव, पंचम प्रसाद समेत बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Farbisganj
Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More