मुंगेर:चुनाव के पूर्व जुमलेबाजी में भिड़े जमालपुर विधानसभा के नेता

0 77

मुंगेर। इन दिनों उजड़ते जमालपुर कारखाना को लेकर मंत्री का पत्र मजाक का पात्र बन गया है और केंद्र सरकार के रेल मंत्री संज्ञान के नाम पर पत्र इधर से उधर कर रहे हैं। यह मामला जनता के बीच अब स्पष्ट रूप से दिखाई देने लगा है। जिससे केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकार के मंत्री व सांसद हास्यपद की स्थिति बन गए हैं।

मंंत्री शैलेस कुमार की पोल विधानसभा जमालपुर की जनता ने खोलकर रख दी है -जय वर्मा

मुंगेर के टेटियाबंवर एक साथ तीन लडकियों की मौत से मची सनसनी

कारखाना के डीजल शेड को बचाने को लेकर लोजपा के प्रधान महासचिव प्रमोद पासवान ने पुनः कोलकाता महाप्रबंधक को पत्र लिखा जिसमें इलेक्ट्रिक इंजन,मेमो पीओएच की मांग की गई है। श्री पासवान ने कहा जब स्टीम ईंजन का युग था तो जमालपुर रेल कारखाना मे स्टीम लोको का कार्यभार था फिर डीजल का युग आया तो डीजल लोको के पीओएच का निर्माण एवं रिपेयरिंग का कार्यभार आया। जिसके अंतर्गत जमालपुर रेल कारखाना के डीजल शॉप में हजार से ज्यादा कामगार अपने श्रम शक्ति एवं कुशल तकनीकी से कार्य को अंजाम देते थे।परंतु इसके बंद हो जाने पर जमालपुर रेल कारखाना के अस्तित्व पर संकट के बादल मंडराने लगा हैं।

इसके पूर्व जमुई के सांसद चिराग पासमान व रेलवे बोर्ड को 17 सूत्री मांगों का आवेदन पत्र प्रमोद पासवान दे चुके हैं। जिसमें कारखाना विकास की बात कही गई थी। चिराग और प्रमोद का लेटर खूब मीडिया में वाहवाही लिया और फिर अब महाप्रबंधक के पास वाहवाही के लिए पत्र लिखा। क्योंकि आने वाला विधानसभा चुनाव है और चटकारेदार भाषण देने में सबों को बनेगा। बता दूं कि विधानसभा चुनाव को लेकर कभी भी आचार संहिता लग सकता है। कारखाना के विकास को लेकर इस तरह की बयान बाजी मजाक बन गया है। क्योंकि बिहार राज्य में जदयू के 16 सांसद भाजपा के 17 लोजपा के 6 है । यह भी जानकारी दे दूं कि रामविलास पासवान निजी तौर पर नीतीश कुमार निजी तौर पर जमालपुर को जानते हैं और इतनी भारी संख्या में सांसद जीते हैं। वह चाहे तो एक दिन के हल्ला बोल में जमालपुर कारखाना में 50 हजार मजदूरों की बहाली हो जाएगी। इलेक्ट्रिक कार्य नहीं बल्कि यहां हवाई जहाज बनने शुरू हो जाएंगे। इस संदर्भ में राजद नेता मुख्तार कुरैशी ने कहा कि मोदी सरकार में सबों को जुमलेबाजी की ट्रेनिंग दी गई है। मंत्री से लेकर पार्टी के महासचिव तक जुमलेबाजी में भरे हुए हैं। कोई कागजी घोड़ा दौड़ा कर कभी चिराग को पत्र लिखते हैं कभी जीएम को आप ही बताइए की चिराग के सामने जीएम की क्या बिसात है। चिराग को तो जे.पी नड्डा व अमित शाह खुशामद करके सीट बंटवारा करवाएं और चिराग प्रधानमंत्री के साथ भी बैठक करते हैं।चिराग आज चाहे तो कल जो है। कारखाना मुद्दे पर धरना पर बैठ चुटकी में कारखाना को संवार सकते हैं ।

एक ओर यह अभी हास्यपद स्थिति है कि रामविलास पासवान सिर्फ हाजीपुर को बनाने का काम किये है। जमालपुर के पुराने रिश्ते को भूल गये। जबकि उनके पुत्र चिराग मुंगेर प्रमंडल अंतर्गत जमुई के सांसद है। चुनाव में इस तरह की जुमलेबाजी वोट बढ़ जाए सीट बीजेपी और जदयू को आ जाए चलो अच्छी बात है। झूठी ही तसल्ली से कारखाना का विकास हो जाएगा ।

यहां के लोग आधी रोटी खाकर भी जी लेंगे । लेकिन उसके लिए भयावह चिंता का विषय है कि जो पढ़े लिखे लोग लाखों लाख पढ़ाई में लगा चुके हैं। उन्हें रोजगार नहीं मिलना और इस जुमलेबाजी में आत्महत्या जैसी स्थिति होगी। वहीं राज्य सरकार के एक मंत्री जमालपुर के विधायक शैलेस कुमार कागजी घोड़ा दौड़ चुका है। लेकिन पत्र के संज्ञान के सिवाय जमीन पर कार्य नजर नहीं आया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

संगम बाबा
Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More