पटना ।ढोल-नगाड़े व डीजे पर झुमते-गाते हजारों शिव भक्तों नें किया ऐतिहासिक बाबा बीहटेश्वरनाथ पर जलाभिषेक

0 60
Above Post 320X100 Mobile
Above Post 640X165 Desktop
  • बोल बम के नारों के साथ हल्दी छपरा संगम घाट से गंगा जल भर पहूंचे बिहटेश्वरनाथ धाम
    पूजा-अर्चना कर भाइयों की कलाइयों पर बहनों नें बाँधी राखी,मिलजुल कर मनाया स्वतंत्रता दिवस का जश्न
Middle Post 640X165 Desktop
Middle Post 320X100 Mobile

किशोर चौहान,बिहटा,(पटना)।श्रावण पूर्णिमा पर ढोल-नगाड़े व डीजे पर नाचते- गाते व झुमते हजारों की संख्या में शिव भक्त गंगा-सोन व सरयुग नदी के संगम स्थल हल्दी छपरा घाट पहूंचे।गंगा में स्नान कर सभी भक्त बोल बम का नारा लगाते ऐतिहासिक बाबा बिहटेश्वर नाथ धाम बिहटा पहूंचे।डीजे की चमचमाती रौशनी में शिव गीतों पर झुमते सैकड़ों टोली में बंटे कांवरियों का दल रातभर हर-हर महादेव व बोल बम का नारा बुलंद करता रहा। बुधवार की शाम से सुबह 6-7 बजे तक एनएच 30 पर शिव भक्तों की भीड़ उमड़ी रही। इसमें इस प्रखंड के अलावे आसपास के कई प्रखंडों व जिलों से पहूंचे शिवभक्तों का हुजूम गंगा घाट पर सुबह होने के घंटो बाद तक स्नान करने में जुटा रहा। वहां से 18 किलोमीटर बिहटा तक एनएच 30 पर सुबह 6 -7 बजे तक भक्तों की कतार लगी रही।इसके अलावे ऑटो व अपने निजी दो व चार पहिया वाहनों से भी हजारों की संख्या में महिला और पुरुष भक्तों ने भी गंगा व सोन तथा अपने-अपने घरों में स्नान कर बाबा बिहटेश्वरनाथ सहित अपने गांव तथा आसपास के प्राचीन शिवालयों में जलभिषेक किया। बिहटा के ऐतिहासिक बाबा बिहटेश्वर नाथ मंदिर में चतुर्मुखी शिवलिंग पर जलाभिषेक को लेकर अहले सुबह 2-3 बजे से ही हजारों की संख्या में भक्तों की कतार लगी रही।जिसमें अधिक महिला भक्तों की भीड़ रही।पूरा इलाका शिव मय रहा।भक्तों को कठिनाई से बचाने के लिये पुलिसकर्मी व मंदिर कमेटी के दजनों सदस्य सेवा में जुटे रहें।गौरतलब हो कि बाबा बिहटेश्वरनाथ के नाम पर बसा बिहटा शहर के इस धाम पर अतिप्राचीन चतुर्मुखी शिवलिंग पर जलाभिषेक के लिये प्रति वर्ष लाखों की संख्या में शिव भक्त सावन व बैशाख माह में आते है।इसको लेकर दोनों माह में यहां मेला लगा रहता है।ऐसी मान्यता है कि भारत मे वर्तमामन चार चतुर्मुखी दुर्लभ शिवलिंग में से यह एक है।इनपर जलाभिषेक करने से भक्तों की सारी मुरादे भगवान शिव पूरी करते है।ऐसा बताया जाता है कि यह शिवलिंग महाभारत काल का है।पांडवों ने अज्ञातवाश के क्रम में इनकी पूजा-अर्चना की थी।कालांतर में इसका स्थापना व मंदिर का निर्माण विष्णुपुरा के गरीबा बाबा ने करीब 400 वर्ष पहले अपनी 51 बीघा से अधिक जमीन देकर करायी थी।प्रति वर्ष लाखों शिव भक्त इस शिवलिंग पर जलाभिषेक करतें है।जिसमें इस प्रखंड के साथ-साथ मनेर,बिक्रम, पालीगंज,दानापुर,पटना साहिब सहित भोजपुर, अरवल आदि अन्य जिलों से भी भक्त पहूंचते है।धार्मिक न्यास बोर्ड के अधीन होने के बाद इस मंदिर को भव्य स्वरूप देने के लिये अभी निर्माण कार्य चल रहा है.इससे मंदिर प्रांगण में भक्तों के कतारबद्ध होने में थोड़ी मुश्किलें हुई।थानाध्यक्ष अवधेश कुमार झा द्वारा भक्तों के कठिनाई दूर करने व शांतिपूर्ण जलाभिषेक के लिये मंदिर में महिला व पुलिस को तैनात किया गया था।वहीं पूूजारी यमुना दास ने बताया मंदिर कमेटी द्वारा भक्तों की सुविधा के लिये स्थानीय दर्जनों कार्यकर्ताओं को लगाया गया था।उधर मनेर के मुनेश्वरनाथ,प्रखंड के कोरहर स्थित बाबा गोखुलेश्वर नाथ व बीहटेश्वरनाथ पर एक साथ के कांवरियों ने जलाभिषेक किया।वही किसुनपुर के ॐकालेश्वरनाथ,पाण्डेयचक,विष्णुपुरा, राघोपुर, अमहारा,परेव,लई, बिंदौल,सदिसोपुर,नेउरा आदि सभी शिवालयों में भी अहले सुुुबह से ही जलाभिषेक के लिये नर-नारियों की भीड़ उमड़ी रही।शिवालयों को सजाया-सँवारा गया।वहीं बहनों ने शिव की पूजा आराधना कर भाइयों की कलाइयों में राख़ी बाँधी।सभी समुदाय के लोगों में मिलजुलकर इन त्योहारों के साथ स्वतंत्रता दिवस का जश्न भी मनाया।सरकारी- गौर सरकारी संस्थानों,स्कूल-कॉलेजों व बूथों से लेकर प्रखंडों तक चहुओर तिरंगा लहराता रहा।वंदेमातरम व भारत माता की जय,वीर शहीद अमर रहे के नारों से वातावरण गूँजता रहा।कई संस्थानों में सांस्कृतिक व अन्य कार्यक्रम भी आयोजित किये गए।

Below Post 300X250 Mobile
Below Post 640X165 Desktop

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Before Author Box 300X250 Mobile
Before Author Box 640X165 Desktop
Before Author Box 320X250 Mobile
After Related Post 640X165 Desktop
Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More