पटना:एनटीपीसी,आरआरबी के अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज एवं झूठे मुकदमे के खिलाफ संयुक्त छात्र संगठनों का विरोध मार्च।

पटना:एनटीपीसी,आरआरबी के अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज एवं झूठे मुकदमे के खिलाफ संयुक्त छात्र संगठनों का विरोध मार्च।

12

बिहार न्यूज़ लाइव:–

पटना: आज दिनांक 28 जनवरी दिन शुक्रवर को पटना में छात्र संगठनों ने अपना अपना झंडा बैनर और संबंधित मागों को लेकर छात्रों ने बैनर तख्ती के साथ पटना कॉलेज से जुलूस की शक्ल में निकाला । वहीं विभन्न तरह के नारे लगाते हुए पुलिस के साथ नोक-झोंक के साथ ही रास्ते के दुकानों को बंद करते हुए डाकबंगला चौराहा पहुंचे।

वहीं चारों दिशाओं से सड़क को बाधित कर सड़क पर बैठ गए। वहीं संयुक्त छात्र संगठनों ने हो रहे अभ्यर्थियों पर पुलिस प्रशासन द्वारा लाठीचार्ज व अभ्यर्थियों पर से झूठा मुकदमा वापस लो नारे लगा रहे थे।

वहीं अभ्यर्थियों की मांगों को पूरी करो सहित । 

इस बीच छात्र जवानों ने रोड पर ही सभा और सांस्कृतिक कार्यक्रम करने लगे। इस दौरान एआईएसएफ के राज्य अध्यक्ष अमीन हमजा,उपाध्यक्ष रजनीकांत यादव और राज्य कार्यकारिणी सदस्य पुष्पेंद्र शुक्ला ने संयुक्त रूप से कहा कि छात्र आंदोलनों को कुचलने, रोकने और बदनाम करने के लिए जो सरकार ने तिक्रम किया है उससे छात्र संगठन डरने वाले नहीं है,हमने हमेशा छात्र-नौजवानों के हित में संघर्ष किया है।

एनटीपीसी,आरआरबी के अभ्यर्थियों की मांग जायज इसलिए उनपर से झूठा मुकदमा वापस लेने और उनकी मांग को पूरा होने तक हमारा आंदोलन जारी रहेगा।

एआईएसएफ के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव विश्वजीत कुमार,राज्य परिषद सदस्य तौसिक आलम,अमन कुमार,आनंद कुमार,एआईवाईएफ के राज्य संयुक्त सचिव शंभू देवा ने संयुक्त रूप से कहा कि पूरे बिहार भर मे हमारा संगठन आम छात्र-नौजवानों को एकजुट कर आंदोलन करेगा और इस छात्र विरोधी सरकार को झुकाएगा।

वहीं पटना-(NTPC)(RRB) रिजल्ट में बड़े पैमाने पर हुए धांधली की जांच करो।

अभ्यर्थियों का कटऑफ के रिजल्ट फिर से प्रकाशित करो।

(ग्रुप डी) में दो परीक्षा पीटी और मेंस का फरमान वापस लो,(NTPC एवं RRB) अभ्यर्थियों पर हुए बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज का नरेंद्र मोदी जवाब दो। रेलवे के किये जा रहे निजीकरण पर रोक लगाओ सहित।

 विभिन्न सवालों को लेकर । (एआईएसएफ) (एआईवाईएफ)(एसएफआई) डीवाईएफआई संयुक्त रूप से बिहार को बंद रहा।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Managed by Cotlas