Bihar News Live
News, Politics, Crime, Read latest news from Bihar

 

हमने पुरानी ख़बरों को archive पे डाल दिया है, पुरानी ख़बरों को पढ़ने के लिए archive.biharnewslive.com पर जाएँ।

नौ दिन कन्या पूजकर, सब जाते है भूल

167

 

बिहार न्यूज़ लाइव /

नवरात्रि एक हिंदू पर्व है। नवरात्रि एक संस्कृत  शब्द है, जिसका अर्थ होता है ‘नौ रातें’। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान, शक्ति  देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि के नौ रातों में तीन देवियों – महालक्ष्मी, महासरस्वती या सरस्वती और दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा होती है जिन्हें नवदुर्गा कहते हैं। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान, शक्ति  देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है।  भारतीय नारीवादियों और आधुनिक भारतीय महिलाओं ने इस परित्यक्त देवी प्रतीकवाद पर सवाल उठाना शुरू कर दिया है क्योंकि इसे पितृसत्तात्मक उत्पीड़न के एक सक्रिय उपकरण के रूप में भी इस्तेमाल किया गया है। अन्य संस्कृतियों और पौराणिक कथाओं में भी कुछ सबसे प्रमुख देवी माताएँ रही हैं और आदर्श मातृत्व के जीवन के प्रतीक हैं – उदाहरण के लिए, मिस्र के आइसिस, ग्रीक डेमेटर या कैथोलिक धर्म में, मैरी यीशु की माँ के रूप में। लेकिन किसी अन्य संस्कृति में छोटी लड़कियों को देवी के रूप में नहीं पूजा जाता जैसा कि भारत में किया जाता है।

आधुनिक देवी आंदोलन महिलाओं की एक नई पीढ़ी के लिए कई प्रारंभिक परंपराओं के पुनर्निर्माण की ओर मुड़ गया, जो लगातार अपने पितृसत्तात्मक समाजों के साथ संघर्ष में थे, जो देवी की पूजा करते थे, लेकिन उनके वास्तविक हाड़-मांस वाली महिलाओं के साथ भेदभाव और शोषण करते थे। कई पश्चिमी नारीवादी और विश्व स्तर पर बहुत सारी महिलाएं हिंदू देवी-देवताओं को प्रेरणादायक और आंतरिक शक्ति प्रदान करने वाली मानती हैं।  

नवरात्रि के आठवें और/या नौवें दिन जिन छोटी-छोटी पूर्व-यौवन लड़कियों की पूजा की जाती है, उनके साथ अक्सर दुर्व्यवहार और भेदभाव किया जाता है। ऐसे कई देवी मंदिर हैं जहां रजस्वला महिलाओं या कथित निचली जाति की महिलाओं को प्रवेश करने की भी मनाही है, देवी के बहुत सारे पूजा स्थल हैं जहां केवल पुरुषों को आंतरिक गर्भगृह में जाने की अनुमति है और महिलाओं को नहीं। नवरात्रि के आठवें और/या नौवें दिन कंजक या कन्या के रूप में पूजी जाने वाली छोटी पूर्व-यौवन लड़कियों को अक्सर बाकी दिनों के लिए लड़कियों के रूप में जन्म लेने के लिए गाली दी जाती है, उनके साथ भेदभाव किया जाता है और उन्हें ‘अपवित्र’ माना जाता है। मासिक धर्म शुरू होने के बाद उनकी पूजा की जानी चाहिए।

बदलते दौर में देवी की समकालीन समझ की आवश्यकता है, हम अत्यधिक ध्रुवीकृत दुनिया में रह रहे हैं और यौन भेदभाव और उत्पीड़न के खिलाफ आंदोलनों के साथ हाल ही में #MeToo जो पश्चिम में उभरा लेकिन भारत में जमीन हासिल की, यह देवी की अवधारणा में विविधता लाने का समय है। लगभग सभी संस्कृतियाँ जो पृथ्वी को माता मानती हैं, उन्हें अपने आसपास के पर्यावरण को होने वाले नुकसान को रोकने के लिए कुछ करना चाहिए। वास्तव में, कुछ लोग महसूस करते हैं, “देवी नारीत्व की पुरुष कल्पना का एक प्रक्षेपण हो सकती है, लेकिन महिलाएं, पूरे इतिहास की तरह, प्रतीक में जो चाहती हैं उसे खोजने के लिए तोड़फोड़ और उलटफेर के औजारों का उपयोग कर सकती हैं।”

कुछ साल पहले, टैप रूट इंडिया ने एक अभियान विकसित किया जिसमें तीन मुख्य हिंदू देवियों – दुर्गा, सरस्वती, और लक्ष्मी की छवियों को प्रस्तुत किया गया था, लेकिन उनके चेहरे पर चोट और चोट के निशान थे जो महिलाओं के खिलाफ हिंसा का संकेत देते थे। अब समय आ गया है, हो सकता है कि देवी से संबंधित इन सभी प्रतीकों को वर्तमान वातावरण के अनुरूप फिर से कल्पना करने की आवश्यकता हो और छाती ठोकने वाली “जय माता दी, माता की जय” की देवी पूजा को यदि प्रतिस्थापित नहीं किया जाता है तो इसका लड़कियों और महिलाओं के लिए एक सुरक्षित और अधिक सम्मान करने की आवश्यकता है।

बहुत से घरों में लड़कियों को वह स्थान और सम्मान नहीं जो परिवार के बेटों को है।  हमारे समाज के कुछ प्रमुख व्यक्ति और राजनीतिक नेता भी केवल कागजी भाषण देने में तो शेर है,  पर घर के अंदर प्रवेश करते ही या भूल जाते हैं कि बाहर महिला अधिकार के लिए क्या-क्या भाषण देकर आए हैं? कितना अफसोस है कि जो संविधान महिला को राष्ट्रपति बना सकता है वह किसी मंदिर की मुखिया नहीं बना सकता।  आज भी कुछ मंदिर ऐसे हैं जहाँ  महिलाओं को प्रवेश नहीं करने दिया जाता।   परिवार के मुखिया पुरुष की मृत्यु के समय पगड़ी बेटियों के सिर पर रख दी जाती है।  जब महिला की मृत्यु होती है उसकी बेटियां या बहू ऐसा अधिकार नहीं रखती जो बेटे या पति को रहता है।   बहुत से समुदाय में तो बिरादरी में बाँधी जा रही पगड़ी को महिलाएं हाथ भी नहीं लगा सकती।  अब धीरे-धीरे थोड़ा परिवर्तन आ  रहा है

कन्या पूजन के साथ हमें यह संकल्प लेना होगा कि जिस लड़की की हम पूजा कर रहे हैं मंदिर की पुजारी क्यों नहीं बन सकती?  कम से कम जो देवियों के मंदिर है वहां की पूजा तो महिलाएं करें।  इसमें तर्क भी है समाज सोचे तो सही?  मंदिर के अध्यक्ष क्यों नहीं बन सकती? ढोलक बजा सकती है, लंगर पका सकती है।  लेकिन कुछ विशेष मंदिरों में उसी देव मूर्ति के दर्शन नहीं कर सकती जिनके गीत गाकर  वो गला फाड़ लेती है या उनके लिए खाना बना कर भोग लगाती है।   याद रखना होगा कि समाज को तो मानसिकता बदलनी है ही पर पहले महिलाओं को मानसिकता बदलनी होगी।

नवरात्रों में भारत में कन्याओं को देवी तुल्य मानकर पूजा जाता है।  पर कुछ लोग नवरात्रि के बाद यह सब भूल जाते हैं।  कई जगह कन्याओं का शोषण होता है और उनका अपमान किया जाता है।  आज भी भारत में बहूत सारे गांवों में कन्या के जन्म पर दुःख मनाया जाता है।  कन्याओं और महिलाओं के प्रति हमें अपनी सोच बदलनी पड़ेगी।  देवी तुल्य कन्याओं का सम्मान करें।  इनका आदर करना ईश्वर की पूजा करने जितना ही पुण्य प्राप्त होता है।  शास्त्रों  में भी लिखा है कि जिस घर में स्त्रियों  का सम्मान किया जाता है वहां भगवान खुद वास करते हैं। 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More