Bihar News Live
News, Politics, Crime, Read latest news from Bihar

 

हमने पुरानी ख़बरों को archive पे डाल दिया है, पुरानी ख़बरों को पढ़ने के लिए archive.biharnewslive.com पर जाएँ।

नालंदा: धर्म हमेशा मिलजुल कर रहना एक-दूसरे से प्रेम करना सिखाता है:मंत्री  

341

 

 

बिहार न्यूज़ लाइव नालंदा डेस्क:  बिहारशरीफ : मणिराम के अखाड़ा पर बाबा मणिराम की समाधि पर बिहार सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार, सांसद कौशलेन्द्र कुमार, जदयू के राष्ट्रीय महासचिव ई सुनील कुमार, विधान पार्षद रीना यादव, पूर्व विधान पार्षद राजू यादव ने लंगोट अर्पित किया।इस अवसर पर मंत्री श्रवण कुमार ने कहा संत शिरोमणि बाबा मणिराम बाबा की कृपा इतनी कि उनके दरबार से कोई खाली हाथ नहीं लौटता है ।सच्चे मन से मांगी गई मुराद जरूर पूरी होती है।बाबा मणिराम और मखदूम साहब में खूब दोस्ती थी।

 

इस लिए बिहार शरीफ को सूफी संतों की नगरी कही जाती है ।नालन्दा विश्व को ज्ञान और शांति का संदेश देने वाली धरती रही है।बाबा मणिराम और महान सूफी संत मखदूम साहब में काफी गहरी दोस्ती यहां के लोगों के लिए आपसी सौहार्द का प्रतीक भी कहा जाता है। एक बार वे दीवार पर बैठकर दातून कर रहे थे तभी मखदुम साहब ने मिलने की इच्छा जाहिर की तो उन्होंने दीवार को ही चलने का आदेश दिया तो दीवार ही चलने लगी थी दोनों संतो की दोस्ती और गंगा जमुनी तहजीब की लोग आज भी मिसल देते हैं। हम सभी बाबा मणिराम से बिहार में अमन,चैन शांति सद्भाव और आपसी भाईचारे की दुआएं मांगते हैं।

बाबा मनिराम देश के लोकप्रिय एवं जनप्रिय नेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी को इतनी शक्ति प्रदान करे न्याय के साथ बिहार और सुशासन का अनुकरणीय मांडल देश स्तर पर लागू कर सकें।जैसे बिहार की खिदमत बिगत वर्षों से लगातार करते आ रहे हैं उसी प्रकार देश स्तर पर लोगों की खिदमत करने का अवसर मिल सकें हमारी सरकार बोलने में कम काम करने में ज्यादा विश्वास करती है किसी भी राजनैतिक पार्टी को धर्म की राजनीति से परहेज़ करना चाहिए भगवान सभी के होते हैं ।काम और जनता के खिदमत के बदौलत पार्टी की नीतियों एवं सिद्धांत की राजनीति कर

 

 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More