Bihar News Live
News, Politics, Crime, Read latest news from Bihar

 

हमने पुरानी ख़बरों को archive पे डाल दिया है, पुरानी ख़बरों को पढ़ने के लिए archive.biharnewslive.com पर जाएँ।

व्यापक है स्वास्थ्य की अवधारणा : डा. फारूक अली

734

 

मधेपुरा: स्वास्थ्य एक व्यापक अवधारणा है और हमें इसे समग्रता में देखने की जरूरत है। सही मायने में वही व्यक्ति स्वस्थ है, जो शारीरिक, मानसिक एवं सामाजिक तीनों दृष्टियों से समस्या-रहित हो। ऐसे ही स्वस्थ व्यक्ति से स्वस्थ समाज एवं राष्ट्र का निर्माण होता है।

यह बात जयप्रकाश विश्वविद्यालय, छपरा के कुलपति सह बीएन मंडल विश्वविद्यालय, मधेपुरा के पूर्व प्रति कुलपति प्रो. (डाॅ.) फारूक अली ने कही।

वे रविवार को युवाओं की स्वास्थ्य समस्याएं एवं समाधान विषयक सेहत संवाद कार्यक्रम का उद्घाटन कर रहे थे। यह आयोजन ठाकुर प्रसाद महाविद्यालय, मधेपुरा में बिहार राज्य एड्स नियंत्रण समिति, पटना के सौजन्य से संचालित सेहत केंद्र के तत्वावधान में किया गया।

*युवाओं पर निर्भर है देश*

उन्होंने कहा कि देश की कुल आबादी का तक़रीबन 40 प्रतिशत किशोर एवं युवा हैं। इस अवस्था में सबसे अधिक ऊर्जा होती है। हम इस उर्जा को सकारात्मक दिशा देकर एक स्वस्थ, सबल एवं समृद्ध भारत का निर्माण कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि युवा संयमित जीवन जीएं, सकारात्मक रहें और उत्पादक श्रम करें।‌ हम अपना दैनिक कार्य स्वयं करें।किचन एवं गार्डेन आदि में हाथ बटाएं। मोबाइल एवं सोशल मीडिया पर समय बर्बाद करने की बजाय परिजनों एवं समाज के बीच समय दें।

*आधुनिक जीवनशैली के कारण परेशान हैं युवा : डॉ. विनीत भार्गव*

कार्यक्रम के मुख्य वक्ता विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार, नई दिल्ली के पूर्व पीआई एवं पब्लिक हेल्थ इम्पावरमेंट एंड रिसर्च आर्गेनाइजेशन के सीईओ डाॅ. विनीत भार्गव ने कहा कि उन्होंने उन्होंने कहा कि हमारा स्वास्थ्य हमारे अपने हाथों में है। हमें अपने स्वास्थ्य की जिम्मेदारी पहले खुद समझना चाहिए और हमारा उद्देश्य सिर्फ लंबा जीवन नहीं, बल्कि गुणवत्तापूर्ण जीवन होना चाहिए। हम दूसरों को दोषी ठहराने की प्रवृत्ति से बचें और स्वयं के स्वास्थ्य की पूरी जिम्मेदारी लें।

उन्होंने बताया कि युवावस्था में हम अपने भविष्य और विशेषकर कैरियर की चिंता में खो जाते हैं। इस आपाधापी और गलत जीवनशैली की वजह से युवा बीमारियों से ग्रस्त होते हैं।

उन्होंने कहा कि युवा गलत जीवनशैली के कारण शारीरिक एवं मानसिक बीमारियों से पीड़ित हो रहे हैं। वे तनाव, चिंता, निराशा एवं अवसाद आदि से घिर जाते हैं। उनमें बीपी, सूगर एवं थायरॉइड का खतरा भी तेजी से बढ़ता जा रहा है।

उन्होंने कहा कि युवाओं को अपने स्लीपिंग और फुड पैटर्न के बारे में भी अधिक सजग रहने की जरूरत है। देर रात तक जगना, जरूरत से ज्यादा भोजन करना हानिकारक है। युवा रात्रि में सही समय पर सोएं और पर्याप्त नींद लें। ताजा, सादा एवं हल्का भोजन करें।

हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. दिनेश चहल ने कहा कि हमें अपने जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में अनुशासन का पालन करना चाहिए। हम सभी का जीवन आज आनलाइन (डीजीटल) हो गया है, लेकिन आन लाइन (रास्ते पर) नहीं है। चौबीस घंटे में से चौबीस मिनट अपने स्वास्थ्य के लिए निकालें।

कार्यक्रम की अध्यक्षता दर्शनशास्त्र विभागाध्यक्ष डाॅ. सुधांशु शेखर ने की।अतिथियों का स्वागत मनोविज्ञान विभागाध्यक्ष डॉ. शंकर कुमार मिश्र ने किया। संचालन शोधार्थी सारंग तनय ने किया। तकनीकी पक्ष गौरव कुमार सिंह एवं सौरभ कुमार चौहान ने संभाला। रोहित सिंह एवं प्रकाश कुमार ने प्रश्न पुछा।।

इस अवसर पर डॉ. प्रियंका सिंह, विद्या रानी, प्रिया सिंह, चंदन कुमार कर्ण, डेविड यादव, सिद्दु कुमार, आनंद कुमार भूषण, चंदन कर्ण, डेविड यादव, डॉ. लक्ष्मण यादव, डॉ राजीव रंजन, गौरव सिंह, नरेश कुमार, गु्ल्फसां प्रवीण, निरंजन, नीरज कुमार, निरंजन कुमार, विकास कुमार प्रियंका सिंह, प्रोफेसर हरीश चौधरी, राकेश कुमार, राकेश कुमार, राम कुमार, रंजन यादव, राजवंशी अंसारी, सौरव कुमार चौहान, सारंग तनय, डाॅ. वसीम रजा, दिलीप कुमार दिल, अनुभा राय, रोहित कुमार, मिश्रा श्याम, प्रिया कुमार, प्रेम कुमार आदि उपस्थित थे

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More